राज्य गठन के बाद पहली बार विद्युत कंपनी में इंजीनियर समेत 2583 कर्मियों की होगी भर्ती

कोरबा 16 जुलाई। विद्युत कंपनी के पावर प्लांट की स्थापना क्षमता बढ़ कर 3224 मेगावाट होने के साथ ही उपभोक्ताओं की संख्या 56 लाख हो गई है। विद्युत कंपनी में अधिकांश पद रिक्त हैं। वहीं कर्मियों के सेवानिवृत होने से भी संख्या कम हुई है। इससे कंपनी का कामकाज प्रभावित हो रहा है। इससे निपटने के लिए कंपनी लंबे अरसे बाद जूनियर इंजीनियर से लेकर मैदानी स्तर पर काम करने वाले लाइन अटेंडेंट के पद पर 2583 कर्मियों की भर्ती करेगी।

छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद विद्युत कंपनी में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में एकमुश्त भर्ती की जा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस पर स्वीकृति देते हुए छत्तीसगढ़ के स्थानीय निवासियों को नियुक्ति देने में प्राथमिकता देने कहा है। ऊर्जा विभाग के विशेष सचिव और विद्युत कंपनी के चेयरमेन अंकित आनंद ने बताया कि राज्य बनने के बाद प्रदेश में विद्युत उत्पादन से लेकर उपभोक्ताओं की संख्या में काफी वृद्धि हुई है। विद्युत उत्पादन क्षमता 1360 मेगावाट से बढ़कर 3224 मेगावाट हो गई है। उन्होंने कहा कि राज्य बनने के समय 18.91 लाख उपभोक्ता थे, जो वह बढ़कर 56 लाख हो गए हैं। इस लिहाज से गुणवत्तापूर्ण बिजली आपूर्ति एवं उपभोक्ताओं की समस्याओं के त्वरित निराकरण के लिए मैदानी अमले में रिक्त पदों की भर्ती आवश्यक हो गई है। ताकि उपभोक्ताओं को सुचारू रुप से बिजली आपूर्ति की जा सके। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ स्टेट विद्युत वितरण पारेषण व उत्पादन कंपनी में लगभग 2583 पदों पर भर्ती की जानी है। उपभोक्ताओं को विद्युत सेवाएं देने की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण ये पद मैदानी कार्यालयों में भरे जाएंगे। इनमें जूनियर इंजीनियर के 340 पद, डाटा एंट्री आपरेटर के 610 एवं परिचारक लाइन प्रशिक्षु के 1500 भरे जाएंगे। इसके साथ ही विद्युत कंपनी के औषधालय में रिक्त पदों की भर्ती की जाएगी। यहां यह बताना लाजिमी होगा कि विद्युत कंपनी में काफी संख्या में जूनियर इंजीनियरों को पदोन्नात कर सहायक अभियंता बनाया है, इसके पश्चात् जूनियर इंजीनियर के रिक्त पदों पर नई नियुक्ति की जाएगी। साथ ही निचले मैदानी स्तर पर बड़े पैमाने पर लाइन स्टाफ की नियमित भर्ती की जाएगी। इनमें 950 पद तृतीय श्रेणी के तथा 1549 पद चतुर्थ श्रेणी के शामिल हैं।

Leave a Comment