डीएमएफ के घोटालेबाज विकास सहायक मनोज टंडन की छुट्टी, कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने की कार्रवाई

छत्तीसगढ़
कोरबा/स्वराज टुडे: जिला कलेक्टर श्रीमती रानू साहू प्रशासनिक कसावट को लेकर एक्शन मोड पर नजर आ रही हैं। विगत 24 घण्टे में जिला कलेक्टर ने भ्रष्टाचार के चर्चित चेहरों पर दूसरी बड़ी कार्यवाही की है। पिछले 24 घंटों में सबसे पहले ट्राइबल विभाग के प्रतिनियुक्ति पर इंजीनियर बने प्रधान पाठक अरुणेश तिवारी पर निलंबन की गाज गिरी। उन पर विभाग के करोड़ों रुपए व्यक्तिगत खाते में अवैधानिक रूप से आहरण करने का मामला सामने आया था जिसके बाद जांच रिपोर्ट के आधार पर तत्परता दिखाते हुए 29 जून को आदेश जारी कर निलंबित कर दिया गया।

वहीं 30 जून को डीएमएफ में पदस्थ विकास सहायक मनोज कुमार टंडन को सेवा से मुक्त कर दिया गया। वह संविदा पर कार्यरत थे।  गुरुवार 30 जून को जारी आदेश के बाद उनकी नियुक्ति समाप्त कर दी गई है। मनोज टंडन डीएमएफ में शुरू से ही विकास सहायक के तौर पर कामकाज देख रहे थे। उनपर निर्माण कार्य की स्वीकृति, कार्य एजेंसी, निर्माण राशि जारी करना, संबंधित ठेकेदारों का भुगतान के जैसे मत्वपूर्ण कार्यों में कमीशन खोरी के गंभीर आरोप हैं, साथ ही हरदी बाजार से सरईश्रृंगार और तरदा मार्ग में करोड़ों की जमीन रजिस्ट्री और उसमें डीएमएफ का काला धन खपाए जाने को लेकर चर्चाएं व्याप्त हैं। इसे जिला कलेक्टर की दूसरी बड़ी कार्रवाई के रूप में देखा जा रहा है। सूत्रों की मानें तो इस शाखा के कुछ और भी कर्मचारियों पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है। डीएमएफ की राशि का दोहन कर मलाई बटोरने वालों की सांसें अटक सी गई हैं कि न जाने उनकी हकीकत कब सामने आ जाये और कार्यवाही हो जाए?

बता दें कि मनोज कुमार टंडन के द्वारा आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने की भी सुगबुगाहट कई दिनों से हो रही है और उसकी संपत्ति की जांच की मांग भी कांग्रेसी नेता कर चुके हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *