अस्पताल में तड़पती महिला को छोड़कर पिकनिक मनाने वाले चिकित्सक डॉ. प्रिंस जैन पर हो कार्रवाई

खनिज न्यास मद व राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से की जाए तत्काल सेवा समाप्त

कोरबा। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्व संयोजक, भाजपा कोसाबाड़ी मंडल के कार्यसमिति सदस्य बद्री अग्रवाल ने जिला अस्पताल में भर्ती महिला मरीज की मौत के मामले में लापरवाही बरतने वाले चिकित्सक डॉ. प्रिंस जैन पर कार्रवाई की मांग की है। बद्री ने डॉ. प्रिंस जैन का खनिज न्यास मद व राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से तत्काल सेवा समाप्त करने की मांग उठाई है। बद्री अग्रवाल ने कहा कि जिला अस्पताल में पथर्रीपारा निवासी आरडी लक्ष्मी नामक महिला को 28 जून को परिजनों ने हार्ट से संबंधित तकलीफ होने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। विशेषज्ञ चिकित्सक उनका इलाज कर रहे थे। इस बीच विशेषज्ञ चिकित्सक ने 3-4 जुलाई को अवकाश लिया था। नियमत: उनके स्थान पर विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ. प्रिंस जैन को अस्पताल में भर्ती महिला का इलाज करना था। महिला मरीज तड़प -तड़प कर सांसे ले रही थी। परिवार के लोग गिड़गिड़ाते रहे। ड्यूटी में मौजूद नर्स विशेषज्ञ डॉक्टर के मोबाईल पर इमरजेंसी कॉल मिलाती रही लेकिन डॉक्टर नहीं पहुंचे। जिससे महिला की मौत हो गई। बद्री अग्रवाल ने आरोप लगाते हुए कहा है कि 4 जुलाई को महिला की तबीयत बिगड़ी उस दिन डॉ. प्रिंस जैन पिकनिक मनाने में मशगुल थे। सूचना देने के बाद भी वे अस्पताल महिला को देखने तक नहीं पहुंचे थे। जबकि डॉ. प्रिंस जैन कोविड अस्पताल ट्रामा सेंटर में खनिज न्यास मद से लगभग 1 लाख रूपए एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से 1 लाख रूपए की सैलरी ले रहे है। डॉ. प्रिंस जैन के खिलाफ स्वयं चिकित्सक ही डीन से शिकायत कर चुके है। कोविड काल में कोविड अस्पताल का प्रभारी होते हुए उन्होंने निजी क्लीनिक में इलाज कर लोगों की जान को मुसीबत में डाला था। लापरवाही बरतने वाले चिकित्सक डॉ. प्रिंस जैन पर लापरवाही बरतने सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है। बद्री अग्रवाल ने मांग की है कि डॉ. प्र्रिंस जैन की खनिज न्यास मद व राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से तत्काल सेवा समाप्त की जाए।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *